Mantra 22076

मुझे विश्वास हैं की दैवी शक्तियां मेरे देश के सरकार का मार्ग दर्शन कर रहे हैं। धन्यवाद श्री कृष्ण, धन्यवाद श्री अर्जुन। I believe that divine forces are guiding the government of my nation. Thank you Sri Krishna. Thank you Sri Arjun.

Mantra 22078

पढ़ी-लिखी बहादुर महिलाये मेरे देश के ऐश्वर्य को बढ़ाने के लिये अपने प्राण तक त्यागने को तैयार हैं। धन्यवाद श्री कृष्ण, धन्यवाद श्री अर्जुन।

Mantra 22080

मेरे देश के ऐश्वर्य को बनाये रखने के लिये देशवासियों में प्रेम, शांति, और कृतज्ञता का भाव पैदा करने के लिये अगर सरकार को कठोर कदम उठाने पड़े तब भी उसे उसमे संकोच नहीं करना चाहिए। धन्यवाद श्री कृष्ण, धन्यवाद श्री अर्जुन।

Mantra 22081

मेरे देश के ऐश्वर्य के लिये उसके नेतृत्व में सभी धर्म, जात, गुट, व्यापार, और उद्योग के लोगों का योगदान लिया जायेगा तब कही जा कर मेरे देश में प्रेम, शांति, और कृतज्ञता का माहौल बनेगा।  धन्यवाद श्री कृष्ण, धन्यवाद श्री अर्जुन।

Mantra 22082

उसके देश की माता, पत्नी और बेटियाँ जिस इच्छा शक्ति से अपने मर्यादा में जीवन व्यतीत कर उसके देश के ऐश्वर्य में वृद्धि कर रही हैं वह अति आदरणीय हैं। इस कार्य में उनको उसका पूरा सहयोग मिल रहा हैं। धन्यवाद श्री कृष्ण, धन्यवाद श्री अर्जुन। The determination with which mother, wife, and daughters of … Continue reading Mantra 22082

Mantra 22082

देश में कई गुट बन गये हैं जो मन मानी कर रहे हैं। धैर्य और अनुशासन तो सब भूल ही गये हैं जैसे। हर तरफ अराजकता फैला हुए है। संत-महात्माओं के आदेश का अवहेलना करने में ये सभी गुट जरा सा भी संकोच नहीं करते हैं। ये सभी गुट अपने ताकत का उपयोग कर अपना … Continue reading Mantra 22082

Mantra 22083

वह अपने समृद्ध विश्व में, वह अपने लोगों से बिना शर्त प्रेम, शांति, और कृतज्ञता की मांग करता हैं। फिर चाहे उसके लिये उंगली टेढ़ी ही क्यू न करना पड़े। धन्यवाद श्री कृष्ण, धन्यवाद श्री अर्जुन। In his prosperous world, he demands unconditional love, peace, and gratitude from his people either by hook or by … Continue reading Mantra 22083

Mantra 22084

उसके विश्व को दशरथ जैसे राजा की जरूरत हैं, राम वन में ही ठीक हैं। धन्यवाद श्री कृष्ण, धन्यवाद श्री अर्जुन। His world need king like Dashrath, Ram is ok in forest. Thank you, Sri Krishna, Thank you, Sri Arjun.

Mantra 22087

उसके लोग जिन्हे वह अपने बच्चों की तरह मानता हैं वही उसके सबसे बड़े दुश्मन और दोस्त भी हैं। धन्यवाद श्री कृष्ण, धन्यवाद श्री अर्जुन। His people whom he treats like his children are his biggest enemies as well as friends. Thank you, Sri Krishna, Thank you, Sri Arjun.

Mantra 22088

उसे बहुत अच्छा लगता हैं अपने लोगों के बुरे और अच्छे भावनाओं को रचनात्मक रूप से व्यक्त कर अपने जीवन को प्रेम, शांति, और कृतज्ञता, से भरने के आम महत्वाकान्छा की तरफ चलाने में। धन्यवाद श्री कृष्ण, धन्यवाद श्री अर्जुन। He feels damn good to express his people's dark and bright emotions creatively to get … Continue reading Mantra 22088